[ad_1]

Sadhguru Jaggi Vasudev: आध्‍यात्मिक गुरु सदगुरु जग्‍गी वासुदेव की हाल ही में अपोलो अस्‍पताल में ब्रेन की सर्जरी हुई है. सद्गुरु को अचानक मस्तिष्‍क की ऐसी गंभीर बीमारी ने घेर लिया था कि उनको 17 मार्च को अस्‍पताल में भर्ती किया गया और डॉक्‍टरों की टीम ने आनन-फानन में इस सर्जरी को अंजाम दिया.

नई दिल्‍ली के इंद्रप्रस्‍थ अपोलो अस्‍पताल में सद्गुरु की सर्जरी करने वाले सीनियर कंसल्‍टेंट न्‍यूरोलॉजिस्‍ट डॉ. विनीत सूरी ने बताया कि की इस बीमारी की शुरुआत चार हफ्ते पहले हुई जब उन्‍हें अचानक सिर में तेज दर्द महसूस हुआ. इस दर्द को वे कई हफ्तों से झेल रहे थे और इसे इग्‍नोर कर अपने रूटीन काम कर रहे थे. हालांकि 15 मार्च को एक बार फिर तेज दर्द होने के बाद उनकी हालत बिगड़ती चली गई. एमआरआई और सीटी स्‍कैन में सद्गुरु के ब्रेन में ब्‍लीडिंग और सूजन का भी पता चला. फिलहाल सद्गुरु की हालत तो स्थिर है और वे ठीक हो रहे हैं. लेकिन आपको बता दें कि यह बीमारी किसी भी व्‍यक्ति को हो सकती है. आइए जानते हैं इसके बारे में…

दिमाग में ब्‍लीडिंग यानि हो सकता है ये…
जब दिमाग में खून की नसें कमजोर और दवाब में होती हैं तो हैमरेजिक स्‍ट्रोक यानि इंट्रासेरेब्रल हैमरेज हो सकता है. इसमें ब्रेन में ब्‍लीडिंग हो सकती है. इसकी शुरुआत सिर में गंभीर दर्द से होती है.

किन वजहों से होती है ये बीमारी..
. ऐसा होने का मुख्‍य कारण हाई ब्‍लड प्रेशर हो सकता है. लंबे समय से चले आ रहे ब्‍लड प्रेशर के चलते यह झटका लगता है.
. धूम्रपान की वजह से भी हैमरेजिक स्‍ट्रोक होता है.
. मोटापा भी इसके लिए जिम्‍मेदार होता है.
. अगर किसी का आहार खराब है, ज्‍यादा कैलोरी वाला है या एमाइलॉइड नाम का प्रोटीन दिमाग की धमनियों में जम गया है तो ये परेशानी हो सकती है.

क्‍या होते हैं लक्षण
. इसमें गंभीर सिरदर्द होता है.
. कमजोरी होती है.
. शरीर के एक तरफ सुन्‍न हो जाता है.
. देखने में दिक्‍कत हो सकती है.
. सोचने-समझने की क्षमता कम हो जाती है.

सभी लोग रखें ध्‍यान
सद्गुरु को जो दिक्‍कत हुई है वह किसी भी आम इंसान को हो सकती है. खासतौर पर बीपी के मरीजों को. ऐसे में अगर ऐसा कोई लक्षण सामने आए तो बीमारी को बिना इग्‍नोर किए तत्‍काल डॉक्‍टर की सलाह लेनी चाहिए.

Tags: Apollo Hospital, Brain, Brain science

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *