[ad_1]

हाइलाइट्स

कोविड के संक्रमण की वजह से कई लोगों को शराब पीने पर खतरनाक नशा हो जाता है.
वैज्ञानिकों की मानें तो ब्लड ब्रेन बैरियर कमजोर होने की वजह से यह परेशानी हो सकती है.

Reason For Bad Hangovers: ज्यादा शराब पीने के बाद अक्सर लोगों को हैंगओवर हो जाता है. आम बोलचाल की भाषा में इसे शराब का नशा कहा जाता है. कई लोग 4-5 पैग के बाद भी सामान्य महसूस करते हैं, तो कुछ लोगों को एक पैग से ही नशा चढ़ जाता है. पिछले कुछ सालों से लोगों को हैंगओवर की समस्या ज्यादा हो रही है और इसकी वजह हैरान करने वाली है. एक हालिया रिसर्च में खुलासा हुआ है कि लॉन्ग कोविड की वजह से भी लोगों को बैड हैंगओवर का सामना करना पड़ रहा है. कोविड की वजह से लोगों की हेल्थ बुरी तरह प्रभावित हुई है और इसकी वजह से उन्हें शराब पीने पर ज्यादा नशा हो जाता है. नई रिसर्च में कई अहम बातों का खुलासा हुआ है.

न्यूयॉर्क पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक कोविड के संक्रमण से लंबे समय तक जूझने वाले लोगों को गंभीर हैंगओवर की समस्या का सामना करना पड़ रहा है. इसका खुलासा क्यूरियस जर्नल में प्रकाशित एक स्टडी में हुआ है. शोध से पता चलता है कि लंबे समय तक रहने वाला कोविड आपका गंभीर हैंगओवर का कारण हो सकता है. यूएस की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में पोस्ट क्यूट कोविड सिंड्रोम क्लीनिक में लंबे समय तक कोविड से जूझने वाले कुछ मरीजों को भर्ती कर इस रिसर्च को किया गया था. इसमें कई चौंकाने वाली बातें सामने आई हैं. शोधकर्ताओं की मानें तो 11 महीने तक कोविड से जूझने वाली एक महिला संक्रमण से पहले वह बिना किसी परेशानी के वाइन पी लेती थी, लेकिन अब एक ड्रिंक के बाद ही बुरा हाल हो जाता है. इतना ही नहीं, वह अपने शरीर को मूव भी नहीं कर पाती है.

3 महीने तक कोविड संक्रमण से जूझने वाली एक महिला का हाल भी काफी बदल गया है. अब वह एक कॉकटेल भी पी ले तो उसे एल्कोहल पॉइंजनिंग होने लगती है और कई दिनों तक सिरदर्द का सामना करना पड़ता है. एक अन्य शख्स को लेकर भी रिसर्च में चौंकाने वाली बात सामने आई है. कोविड होने से पहले वह अपनी मर्जी से शराब पीता था और कोई परेशानी नहीं होती थी. अब एक बीयर पीने के बाद ही सिरदर्द, नींद की समस्या और सोचने-समझने में दिक्कत होने लगती है. एक अन्य महिला को तो अब शराब पीने के बाद स्किन की गंभीर समस्या होने लगती है, जबकि पहले ऐसा नहीं था.

शोधकर्ताओं ने गहन अध्ययन के बाद निष्कर्ष निकाला है कि लंबे समय तक कोविड संक्रमण से जूझने वाले लोगों में इंफेक्शन की वजह से एल्कोहल रिएक्शन और सेंसिटिविटी में बदलाव आ गया है. शरीर में वायरस और इंफ्लेमेशन हो जाए, तो इससे ब्लड ब्रेन बैरियर कमजोर होने लगता है. यह बैरियर कोशिकाओं की एक परत होती है, जो फिल्टर के रूप में कार्य करती है और मस्तिष्क को हानिकारक पदार्थों, रोगाणुओं और अन्य चीजों से बचाती है जो नुकसान पहुंचा सकती हैं. इस बैरियर के कमजोर होने से अब अधिक शराब मस्तिष्क में प्रवेश कर सकती है और लोगों को गंभीर परेशानी हो सकती है.

वैज्ञानिकों की मानें तो कोविड संक्रमण की वजह से ब्लड ब्रेन बैरियर कमजोर हो गया है और शराब पीने से यह ब्रेन तक पहुंच सकती है, जबकि पहले बैरियर इन चीजों को रोक देता था. वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि लंबे समय तक कोविड से पीड़ित लोगों के रक्तप्रवाह में सूजन वाले अणुओं की वृद्धि हो सकती है, जो कभी-कभी हैंगओवर का कारण बनता है. शोधकर्ताओं ने कहा कि चूंकि सभी परिणाम स्व-रिपोर्ट किए गए थे और मरीजों को लंबे समय तक कोविड ​साबित नहीं करना पड़ा, इसलिए अधिक अध्ययन की जरूरत है. हालांकि उन्होंने पाया कि COVID और हैंगओवर के बीच संबंध हो सकता है.

यह भी पढ़ें- दूध में मिलाकर पिएं यह 1 चम्मच पाउडर, पहलवान सी बॉडी बनाने का सपना होगा पूरा, लोहे सी मजबूत होंगी मसल्स

यह भी पढ़ें- किस वक्त लेना चाहिए विटामिन D सप्लीमेंट? सुबह या शाम, यहां जानें बेस्ट टाइम, शरीर को मिलेगा भरपूर फायदा

Tags: Alcohol, Health, Lifestyle

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *