कृष्णा कुमार गौड़/जोधपुर. राजस्थान का कल्चर और यहां की संस्कृति का ढंका देश और विदेश में बजता है उसी का नतीजा है कि जब भी कोई देशी-विदेशी पर्यटक जोधपुर आता है तो यहां की प्रसिद्ध जूतियों को खरीदे बिना नही जाता. इसलिए ही राजस्थान के जोधपुर शहर में बनने वाली जूतियां देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी काफी फेमस है. रॉयल लुक देने वाली ये जूतियां खरीदने के लिए हर कोई एक्साइटेड रहता है. जोधपुर की ये जूतियां इतनी फेमस है कि इन्हें राजा-महाराजा, राजनेता, फिल्मी सितारे, मुख्यमंत्री सहित कई बड़ी हस्तियों की भी जोधपुरी जूतियां पसंद बन चुकी हैं और आज जब जोधपुर में लगे राजस्थान उद्योग हस्तशिल्प उत्सव में भी जब इन जूतियों का प्रदर्शन किया गया है तो उपमुख्यमंत्री दीया कुमारी भी मेले में पहुंची थी उन्होंने हाथों से बनी इन जूतियों की सराहना कर स्वयं पहनकर भी देखा.

जूतिया बनाने वाली रामेश्वरी ने बताया कि देश से लेकर विदेश में जोधपुरी जूती (मोजड़ी) अपनी खास पहचान रखती हैं. इन जूतियों की खास बात ये है कि ये वजन में काफी हल्की होती हैं. राजा महाराजाओं और राज परिवार सहित जातियों के आधार पर ये अलग-अलग डिजाइन, नक्काशी और कशीदाकारी से तैयार की जाती है. इनके नाम भी अलग-अलग होते हैं. हम बड़ी मेहनत के साथ इनको बनाते है. जूतियां बनाने में हमारा पूरा दिन निकल जाता है.

जानिए जूतियों की खासियत
जोधपुर की बनी जूतियां न सिर्फ राजस्थान बल्कि पूरी दुनिया में भी फेमस है. हालांकि, सूर्य नगरी के अलावा जूतियां प्रदेश के अन्य जगहों जैसे फलोदी बाड़मेर जयपुर, जैसलमेर, भीनमाल, बीकानेर, जालौर, नागौर सहित कई जिलों में बनती है. लेकिन जोधपुर की बनी जूतियों की बात ही कुछ अलग है. जोधपुर की जूतियों की खासियत यह है कि वह फूलों के पंखुड़ियों की जैसे कोमल, आरामदायक और आकर्षक कशीदाकारी वाली होती हैं. इन जूतियों की खासीयत यह भी है कि यह पानी में बिल्कुल खराब नहीं होती हैं. यह पहले किसानों के लिए बनाई जाती थी क्योंकि इसकी शॉल इतनी मजबूत हुआ करती है कि यह पानी में तो खराब नहीं होती साथ ही कांटे इत्यादि भी नहीं चूबते थे.

यह भी पढ़ें- बोल-सुन नहीं सकते थे बच्चे… महिला ने जगाई उम्मीद, आज दुनिया को अपनी कला से कर रहे कायल

हाथ से ऐसे होती है कशीदाकारी
जूतियों को लेकर एक समय में क्रेज हुआ करता था कि गांव के लोग या फिर राजा महाराजाओं के समय ही पहनी जाती थी. मगर बदलते समय के साथ अब युवक और युवतियां भी इसको खासा पसंद करने लगे है. वहीं, शादी हो या फिर निकाह हो इस शुभ बंधन में बंधने से पहले दूल्हे और दुल्हन को खास तौर से तैयार की गई जूतियां पहनाई जाती हैं. ये मोजड़िया वैसे तो चमड़े की बनाई जाती है. लेकिन उसके ऊपर कशीदाकारी करके इन जूतियों को और ज्यादा सुंदर बनाते है. जोधपुरी जूतियां के चमड़े पर हाथ से कसीदा किया जाता है. किस मौसम में कैसा चमड़ा और धागा इस्तेमाल करना है ये सब जोधपुर के कारीगर बखूबी जानते है. बॉलीवुड की भी कई हस्तियां इन मोजड़ीओं को पसंद करती है.

Tags: Jodhpur News, Lifestyle, Local18, Rajasthan news



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *