बच्चों और युवाओं को लुभाने के लिए नए-नए मार्केटिंग स्ट्रैटजी (Marketing Strategy) का उपयोग करके नए युग के गेटवे उत्पादों के साथ वेपिंग समाज के लिए अपरिवर्तनीय खतरे पैदा कर रही है. ऐसे में आज के गलत सूचना के युग में नागरिकों के लिए विश्वसनीय और सटीक जानकारी तक पहुंच बेहद महत्वपूर्ण है, ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि वे निहित स्वार्थों द्वारा प्रचारित गतिविधियों का शिकार न हों.

मदर्स अगेंस्ट वेपिंग हमारे युवाओं के बीच बढ़ते वेपिंग संकट का मुकाबला करने वाली चिंतित माताओं के संयुक्त मोर्चे ने वेपिंग से जुड़े 10 प्रमुख स्वास्थ्य जोखिमों पर प्रकाश डाला है. इसका उद्देश्य वेपिंग और निकोटीन के अत्यधिक उपयोग से लेकर बच्चों में फेफड़ों की गंभीर चोट तक विभिन्न स्वास्थ्य खतरों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है.

पहला जोखिम जो उजागर किया है, वह यह है कि सामान्य सिगरेट के विपरीत नए युग के तंबाकू उपकरणों (Tobacco Devices) के परिणामस्वरूप अत्यधिक निकोटीन का सेवन हो सकता है.

दूसरी बात यह है कि एक प्रचलित गलत धारणा है कि नए जमाने के तंबाकू उपकरणों से निकलने वाले वाष्प हानिरहित होते हैं, लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है. इनके उत्सर्जन में निकोटीन डायसेटाइल सहित कई हानिकारक पदार्थ शामिल होते हैं जो फेफड़ों की गंभीर नुकसान से जुड़े होते हैं. ई-सिगरेट द्वारा उत्पादित एरोसोल में 2.5 माइक्रोन (पीएम2.5) से छोटे कण होते हैं जो श्वसन स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव के लिए खतरनाक हैं.

संयुक्त राज्य अमेरिका (USA) में 2019 ई-सिगरेट या वेपिंग उत्पाद उपयोग से संबंधित फेफड़ों की विकार (ईवीएएलआई) का प्रकोप एक स्पष्ट अनुस्मारक के रूप में कार्य करता है, जिसके कारण कई अमेरिकियों को मुख्य रूप से किशोरों और युवा वयस्कों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा, जिसके परिणामस्वरूप कई जीवित बचे लोगों के फेफड़ों की क्षति और पल्मोनरी डिस्फंक्शन देखने को मिला.

तीसरा, नए जमाने के गेटवे उपकरणों (Gateway Devices) के खतरे सिर्फ श्वसन संबंधी स्वास्थ्य समस्याओं से कहीं अधिक हैं. ई-सिगरेट, विशेष रूप से, रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाती है, जिससे हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है. वे प्रतिरक्षा प्रणाली और प्रजनन अंगों पर नकारात्मक प्रभाव से भी जुड़े हुए हैं.

चौथा, ये उपकरण पर्यावरणीय मुद्दों (Environmental Issue) में योगदान करते हैं और परिणामस्वरूप मनुष्यों को नुकसान पहुंचाते हैं. नए युग के तंबाकू उपकरणों के घटकों में एक कार्ट्रिज, एक एटमाइजर और एक बैटरी शामिल हैं, जिनमें धातु और सिरेमिक जैसी सामग्रियां शामिल हैं.

इन घटकों का अनुचित निपटान पर्यावरणीय खतरों (Environmental Hazards) को उत्पन्न करने वाले ई-कचरे में योगदान देता है.

पांचवां, स्वास्थ्य से जुड़ा खतरा मानसिक स्थिति से संबंधित है. सहकर्मी-समीक्षित अध्ययनों से वेपिंग, निकोटीन और अवसाद और चिंता से संबंधित लक्षणों के बढ़ने के बीच परेशान करने वाले संबंध सामने आए हैं. निष्कर्षों से पता चलता है कि व्यक्तियों में उनकी वेपिंग आदतों के कारण अवसाद का निदान होने की अधिक संभावना है.

छठा, इन उत्पादों में मौजूद रसायन मौखिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण खतरा पैदा करते हैं, जिससे मसूड़ों की बीमारी, दांतों की सड़न और मौखिक संक्रमण (Elergy) जैसी समस्याएं पैदा होती हैं. फरवरी 2022 में एनवाईयू कॉलेज ऑफ डेंटिस्ट्री के एक अध्ययन में पाया गया कि ई-सिगरेट माइक्रोबायोम को बदल देता है, जो मसूड़ों की बीमारियों में योगदान देता है.

सातवां, गर्भावस्था के दौरान इन नए जमाने के तंबाकू उत्पादों का उपयोग भ्रूण के स्वास्थ्य के लिए गंभीर जोखिम पैदा करता है, जिससे समय से पहले जन्म, जन्म के समय कम वजन और नवजात शिशुओं में विकासात्मक जटिलताओं जैसे प्रतिकूल परिणामों की संभावना काफी बढ़ जाती है.

आठवां, स्वास्थ्य संबंधी खतरा यह है कि वैकल्पिक तंबाकू उत्पाद कोकीन और हेरोइन जैसी अधिक गंभीर लतों के प्रवेश द्वार के रूप में कार्य कर सकते हैं. इन विकल्पों के माध्यम से निकोटीन के शुरुआती संपर्क और लत से व्यक्तियों, विशेष रूप से युवा उपयोगकर्ताओं के लिए, मजबूत नशे की लत वाले पदार्थों के साथ प्रयोग करने का मार्ग प्रशस्त हो सकता है, जो उनके समग्र स्वास्थ्य और कल्याण पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकता है.

नौवां, किशोर मस्तिष्क विकास के दौरान नए जमाने के उपकरणों से निकोटीन का संपर्क अनुभूति, ध्यान और आवेग नियंत्रण पर स्थायी प्रभाव डाल सकता है. यह न केवल सीखने के माहौल को बाधित करता है बल्कि इस हानिकारक व्यवहार में संलग्न छात्रों के संज्ञानात्मक विकास को भी बाधित करता है.

अंतिम, लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि इन नए युग के गेटवे उपकरणों द्वारा उत्पन्न एक महत्वपूर्ण स्वास्थ्य खतरा उनकी खराबी या विस्फोट के प्रति संवेदनशीलता है, जिससे उपयोगकर्ताओं के लिए जलन, चेहरे पर आघात और दुखद रूप से मृत्यु जैसे गंभीर जोखिम होते हैं.

ई-सिगरेट बैटरियां “थर्मल रनवे” नामक प्रक्रिया के माध्यम से बिना किसी चेतावनी के फट सकती हैं, जो तब होता है जब बैटरी ज़्यादा गरम हो जाती है, जिससे आंतरिक तापमान में खतरनाक वृद्धि होती है जिसके परिणामस्वरूप आग और विस्फोट होता है. ओवरचार्ज, पंक्चर, बाहरी गर्मी और शॉर्ट सर्किट जैसी स्थितियां थर्मल रनवे को ट्रिगर कर सकती हैं.

इन उपकरणों के निर्माता आजीवन ग्राहक बनाने के लिए बच्चों और युवाओं को लक्षित करते हैं. चिंताजनक बात यह है कि 13-15 वर्ष की आयु के बच्चे सभी डब्ल्यूएचओ क्षेत्रों में वयस्कों की तुलना में अधिक ई-सिगरेट का उपयोग कर रहे हैं. इस मुद्दे के समाधान के लिए, इन उत्पादों से जुड़े वास्तविक जोखिमों के बारे में सक्रिय रूप से सटीक जानकारी प्रसारित करना, किसी भी भ्रामक धारणा को दूर करना, बच्चों और युवाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करना आवश्यक है.

Tags: Cigarettes, Global health, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *