तनुज पाण्डे/ नैनीताल. आज के समय में युवाओं के लिए तंबाकू का सेवन करना एक फैशन बनता जा रहा है. तंबाकू इस्तेमाल करने के होड़ में में अब पहाड़ की महिलाएं भी पीछे नहीं है .लेकिन तंबाकू का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक होता है. अगर तंबाकू के सेवन पर कंट्रोल नहीं किया जाए तो ये यह जानलेवा साबित हो सकता हैं. तंबाकू के सेवन से मुंह, गला, फेफड़ा, कंठ, खाने की नली, गुर्दे का कैंसर हो सकता है. कई विज्ञापनों और जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से भी लोगों को तंबाकू से होने वाली बीमारियों से बचने के लिए जागरूक किया जाता है. बावजूद इसके तंबाकू का सेवन करने वालों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है.

ऐसे में सिर्फ पुरुषों की संख्या में ही इजाफा नहीं हो रहा है बल्कि तंबाकू सेवन में महिलाओं की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है. जिस वजह से उनके स्वास्थ्य पर भी तंबाकू से होने वाली बीमारियों का खतरा मंडरा रहा है. उत्तराखंड के नैनीताल के बीडी पांडे जिला अस्पताल में रोजाना एक दर्जन से भी अधिक मरीज आ रहे हैं और ये सभी महिलाएं हैं, जो पहाड़ों में रहती हैं और लंबे समय से बीड़ी, तंबाकू आदि का सेवन कर रही हैं.

एक सिगरेट में 7000 केमिकल
बीडी पांडे अस्पताल के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. सुधांशु सिंह ने बताया कि पहाड़ों में धूम्रपान के केस ज्यादा हैं. उनके पास रोजाना एक दर्जन से भी अधिक मरीज ऐसे आ रहे हैं, जो धूम्रपान करते हैं. इनमें ज्यादातर उम्र दराज महिलाएं हैं. कुछ महिलाओं में तंबाकू चबाने जैसी लत भी है. उन्होंने बताया कि एक सिगरेट में 7000 केमिकल होते हैं. इसमें से 70 केमिकल बेहद टॉक्सिक और कैंसर जैसी बीमारी को जन्म देते हैं. धूम्रपान या तंबाकू सेवन की वजह से ये केमिकल सीधा फेफड़ों में जाता है और खून के साथ मिलकर रक्त वाहिकाओं के मार्ग को संकरा कर देते हैं, जिसकी वजह से खून का फ्लो धीमा हो जाता है और हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है.

पहाड़ों में ठंड के कारण खून हो जाता है गाढ़ा
डॉ. सुधांशु बताते हैं कि पहाड़ों में ठंड के कारण खून गाढ़ा होने जैसी समस्याएं आमतौर पर देखी जा रही हैं और यदि ऐसे केस में आप धूम्रपान करते हैं, तो हार्ट अटैक व अन्य दिल की बीमारियों का खतरा और भी बढ़ जाता है. वहीं महिलाओं में धूम्रपान से होने वाले खतरे और भी ज्यादा बढ़ जाते हैं. उन्होंने बताया कि एक उम्र के बाद हमारे हृदय के चैंबर का आकार बढ़ जाता है, जिस वजह से दिल की धड़कनें भी बढ़ जाती हैं और ऐसे में दिल की बीमारियों का खतरा बना रहता है. अगर आप दिल संबंधी बीमारी से ग्रसित हैं, तो आपको दवाइयां नियमित तौर पर लेनी चाहिए. साथ ही धूम्रपान से बचना चाहिए.

Tags: Health News, Life18, Local18, Nainital news, Uttarakhand news

Disclaimer: इस खबर में दी गई दवा/औषधि और स्वास्थ्य से जुड़ी सलाह, एक्सपर्ट्स से की गई बातचीत के आधार पर है. यह सामान्य जानकारी है, व्यक्तिगत सलाह नहीं. इसलिए डॉक्टर्स से परामर्श के बाद ही कोई चीज उपयोग करें. Local-18 किसी भी उपयोग से होने वाले नुकसान के लिए जिम्मेदार नहीं होगा.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *