अंजू प्रजापति/रामपुर: लेमन ग्रास भारत में व्यापक रूप से उगाई जाने वाली एक आयुर्वेदिक औषधीय घास है. लेकिन अधिकतर लोग इसे जंगली घास के नाम से जानते हैं. यह औषधीय गुणों से भरपूर होती है. यह आपके स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों को जड़ से खत्म करने में बेहद लाभदायक होती है.इसका उपयोग अपच और सूजन जैसी समस्याओं के लिए घरेलू उपचार के रूप में किया जाता रहा है. लेमनग्रास में पोटेशियम होता है, जो ब्लड फ्लो को बेहतर बनाता है

लेमन ग्रास का उपयोग दवाइयां बनाने मे भी किया जाता है. इस घास के पत्तियों की सुगंध नींबू  जैसी होती है. इसके अलावा लेमन ग्रास देखने मे हरे रंग की कटीली घास होती है. लेमन ग्रास को आप हल्का सा हाथ पर मसलेंगे तो इसकी महक नींबू जैसी होती है. लेमनग्रास का सेवन करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप इसे चाय की तरह बना कर पी सकते हैं. चाय बनाने के लिए सबसे पहले एक कप पानी में एक ग्राम लेमनग्रास उबाल कर उसे छलनी से छानकर गुनगुना पी सकते हैं.

लेमनग्रास में कई औषधीय गुण होते हैं

डॉक्टर वेद्द गुन्जन अग्रवाल के मुताबिक लेमनग्रास के अनेकों बेनिफिट्स हैं. बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन, इम्यूनिटी, कोलेस्ट्रॉल, डाइजेस्टिव हेल्थ, और लेडीज  में मेंसुरेशन हेल्थ इन सब में बेहद लाभदायक होती है. अगर आप इसको रेगुलर चाय की तरह पीते हैं, तो आपका ब्लड कोलेस्ट्रॉल कम करने में मददगार रहेगी. सेवन करते समय लेमनग्रास की मात्रा का अवश्य रखें ध्यान. पूरे दिन में मैक्सिमम आपको 3 ग्राम लेमनग्रास का सेवन करना चाहिए. अगर आप तीन टाइम इसकी काढ़ा बनाकर पी रहे हैं तो एक-एक टाइम में एक-एक ग्राम लेमनग्रास का सेवन करें.

Tags: Health benefit, Hindi news, Local18

Disclaimer: इस खबर में दी गई दवा/औषधि और स्वास्थ्य से जुड़ी सलाह, एक्सपर्ट्स से की गई बातचीत के आधार पर है. यह सामान्य जानकारी है, व्यक्तिगत सलाह नहीं. इसलिए डॉक्टर्स से परामर्श के बाद ही कोई चीज उपयोग करें. Local-18 किसी भी उपयोग से होने वाले नुकसान के लिए जिम्मेदार नहीं होगा.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *