रामकुमार नायक/रायपुर. भारत देश में अनेक राज्य हैं. हर राज्य की एक अलग विशेषता है और कहा जाता है कि अनेकता में एकता, यही भारत की विशेषता है. आज हम आपको छत्तीसगढ़ और उड़ीसा प्रांत की प्रसिद्ध संबलपुरी साड़ी के बारे में बताने जा रहे हैं. यह साड़ी दिखाने में बेहद ही खूबसूरत लगती है इसे देखते ही आप समझ जाएंगे कि यह किसी राज्य की ट्रेडिशनल साड़ी है. इन दिनों छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले के भंवरपुर निवासी विनोद देवांगन अपनी पत्नी वृंदावती देवांगन के साथ संबलपुरी साड़ी बुन रहे हैं.

जागृति बुनकर सहकारी समिति मर्यादित भंवरपुरके अध्यक्ष रमेश कुमार देवांगन ने बताया कि संबलपुरी साड़ी बहुत खूबसूरत साड़ी होती है. इसे बनाने के लिए सबसे पहले धागा तैयार किया जाता है. फिर धागा को कलर किया जाता है फिर एक-एक धागे को अच्छे से बनाया जाता है. बाजार में अच्छी डिमांड होने की वजह से बुनकरों को अच्छी आमदनी हो रही है. भंवरपुर के बुनकर संबलपुरी साड़ी बेंचने ओड़िशा प्रांत के बरगढ़ जाते हैं, वहां सभी साड़ियां अच्छे दाम में बिक जाती है. एक संबलपुरी साड़ी की कीमत 4 हजार रुपए से लेकर 10 हजार रुपए तक है. इसमें बुनकरों को प्रति साड़ी मजदूरी 1500 रुपए से लेकर 3000 रुपए तक मिल जाती है.

यह भी पढ़ें- मेहनत और लागत कम… दो महीने में आ जाता है फल, एक बार में 3 लाख की होती है कमाई

कैसे तैयार होती है संबलपुरी साड़ी 
रमेश कुमार देवांगन ने आगे बताया कि एक संबलपुरी साड़ी बनने में महज दो-तीन दिन ही लगते हैं. यानी बुनकर दो दिनों में तीन हजार रुपए की आमदनी कर रहे हैं. यह संबलपुरी साड़ी ज्यादातर ओड़िशा के भुनेश्वर, कटक, बरगढ़ जैसे अन्य शहरों में ज्यादा डिमांड है. इसके अलावा छत्तीसगढ़ की राजधानी में भी संबलपुरी साड़ियों की अच्छी मांग है. बुनकरों द्वारा छत्तीसगढ़ सरकार की योजनाओं के लिए गणवेश वस्त्र, चादर, साड़ी जैसे अन्य कपड़े तैयार किए जा रहे. इन बुनकरों द्वारा बनाई गई साड़ियां आप राजधानी रायपुर के बिलासा शो रूम से भी खरीद सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए समिति के अध्यक्ष रमेश कुमार देवांगन के मोबाइल नंबर 96852 06607 पर संपर्क कर सकते हैं.

Tags: Chhattisagrh news, Lifestyle, Local18, Raipur news



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *