दीपक कुमार/बांका: अक्सर लोग घुटने के दर्द से परेशान रहते हैं. हालांकि प्राकृतिक चिकित्सा की मदद से इलाज करने पर राहत पा सकते हैं. सात दिनों के अंदर ही इसका असर देखने को मिल जाएगा. चिकित्सक रासबिहारी सिंह बताते हैं कि प्राकृतिक चिकित्सा वह चिकित्सा है जिसे नियमित उपयोग में लाने पर कई प्रकार के रोग से मुक्ति पाते हैं. चिकित्सक ने बताया कि यह चिकित्सा पद्धति प्राकृतिक गुणों से परिपूर्ण है. यह विधि लोगों को रोगों से मुक्ति दिलाता है. इसी तरह लोग घुटने के भी दर्द से परेशान रहते हैं तो इन उपायों से छुटकारा पा सकते हैं.

घुटने के दर्द की रामबाण औषधि है हरसिंगार का पत्ता
चिकित्सक रासबिहारी सिंह बताते हैं कि घुटने के दर्द से 60 वर्ष की उम्र आते-आते लोग जूझने लगते हैं. यदि नियमित रूप से हरसिंगार के सात पत्ते को अच्छी तरीके से धोकर गोल मिर्च (मरीच) को स्वाद अनुसार सेंधा नमक या काला नमक के साथ खोलते हुई पानी में उबालकर खाली पेट पिया जाय तो यह रामबाण औषधि का काम करता है. साथ ही हल्दी और अदरक का पेस्ट बनाकर दिन में दो बार और रात में सोने से पहले अच्छी तरह से पेस्ट लगाकर 7 दिन में हीं दर्द से राहत मिल जाता है.

यह भी पढ़ें : बीमारी से लड़ते-लड़ते बन गए डॉक्टर, राजनीति में बनाई अलग पहचान, अब पद्मश्री के बाद मिलेगा पद्म विभूषण

खाली पेट हरसिंगार फूल का सेवन करने से मिलती है राहत
चिकित्सक रासबिहारी सिंह बताते हैं कि लोग दर्द से परेशान होने के बाद अक्सर अंग्रेजी दवाई लेना शुरू कर देते हैं, जो शरीर के लिए काफी हानिकारक होता है. इसलिए लोगों को हमेशा प्राकृतिक चिकित्सा की ओर ध्यान देना चाहिए. यह हर जगह सरलता से उपलब्ध हो जाता है और किसी भी प्रकार की शरीर को परेशानी नहीं होती है. हरसिंगार फूल का पेड़ आपको हर जगह आसानी से मिल जाता है. जिससे उपचार कर तुरंत घुटनें की दर्द से राहत मिल जाती है. सुबह के समय में नियमित खाली पेट सेवन करने से दर्द से राहत मिलता है.

Tags: Banka News, Bihar News, Health News, Lifestyle, Local18

Disclaimer: इस खबर में दी गई दवा/औषधि और स्वास्थ्य से जुड़ी सलाह, एक्सपर्ट्स से की गई बातचीत के आधार पर है. यह सामान्य जानकारी है, व्यक्तिगत सलाह नहीं. इसलिए डॉक्टर्स से परामर्श के बाद ही कोई चीज उपयोग करें. Local-18 किसी भी उपयोग से होने वाले नुकसान के लिए जिम्मेदार नहीं होगा.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *