पीयूष पाठक/अलवर. अलवर जिले के किसानों को अब आंवले की खेती रास आने लगी है. इसका सीधा सा कारण है कि आंवला औषधि में भी भरपूर मात्रा में काम लिया जाता है. अलवर जिले में पिछले 3 साल में आंवले का अच्छा उत्पादन हो रहा है. उद्यान विभाग के अनुसार अब जिले में 60 हेक्टेयर में आंवले की खेती की जा रही है. कोरोना के बाद पिछले 3 साल में ही अलवर जिले में आंवले का रकबा 40 हेक्टेयर में बढ़ा है. जिसमें चकईया किस्म का आंवला सबसे प्रमुख है. जिले में बहरोड़, नीमराणा क्षेत्र में आंवले की भरपूर पैदावार हो रही है.

उद्यान विभाग के सहायक निदेशक लीलाराम जाट ने बताया कि पिछले 3 साल से अलवर जिले में किसानों उद्यान विभाग से संपर्क कर आंवले के बारे में जानकारी जुटाई. इसके बाद जिले में किसानों ने करीब 30 हेक्टेयर में आंवले का उत्पादन किया. उत्पादन बढ़ने से अलवर जिले का चकईया किस्म के आंवले की डिमांड अब उत्तर प्रदेश, बिहार, गुजरात जैसे बड़े राज्यों में भी हो रही है. इससे अलवर के किसानों को अच्छा मुनाफा भी प्राप्त हो रहा है. लीलाराम जाट ने बताया कि पहले अलवर में आंवले का उत्पादन कम हो रहा था. लेकिन अब किसानों को आंवले की खेती रास आ रही है.

आंवले की होती है कई किस्म
लीलाराम जाट ने बताया कि आंवले की कई किस्म होती है. जिसमें बनारसी, चकईया, फ्रांसिस, कृष्णा, नरेंद्र, कंचन जैसी किस्म है. हालांकि, अलवर जिले के किसान चकईया किस्म के आंवले की पैदावार कर रहे है. यह मध्य समय में तैयार हो जाती है इसके फल करीब 30 ग्राम के होते हैं. उन्होंने बताया कि जिले में 2005 से 2009 तक 1600 हेक्टेयर तक पहुंच गया था. लेकिन उस समय किसानों को इसका भाव नहीं मिल पा रहा था. इसके चलते किसानों ने आंवले से दूरी बनाई. इसके बाद 2021 तक आंवले का रकबा जिले में मात्र 30 हेक्टेयर में रह गया. हालांकि, कोरोना के बाद से एक बार फिर से किसानों ने आंवले की खेती में हाथ आजमाया. अब जिले में आंवले की खेती 60 हेक्टेयर में हो रही है. आंवले की पैदावार करने वाले किसान धनीराम ने बताया कि आजकल आंवले की डिमांड ज्यादा है.

आंवला खाने के फायदे
आंवला में भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है. अगर आपका पेट खराब रहता है, तो आंवले का सेवन आपके लिए बहुत लाभकारी साबित हो सकता है. आंवला स्किन को डिटॉक्सीफाई करता है और बालों को चमकदार और मजबूत बनाने का काम करता है. आंवले में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट और विटमिन सी मेटाबॉलिज्म को बढ़ावा देने और सर्दी-खांसी सहित वायरल और बैक्टीरियल बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं

Tags: Alwar News, Food, Food 18, Local18, Rajasthan news



Source link

35 thoughts on “Farmers are liking Chakaiya, area is increasing in the district, demand reaches UP, Bihar – News18 हिंदी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *