हाइलाइट्स

केसर की शुद्धता जांचने के लिए आप इसे टेस्ट कर सकते हैं.
असली-नकली च्यवनप्राश की पहचान के लिए इसे दूध या पानी में घोल कर देख सकते हैं.

Chyawanprash and Saffron Purity Test: सर्दी के मौसम में हेल्दी रहने के लिए लोग कई गर्म चीजों का सेवन करते हैं, जिसमें च्यवनप्राश और केसर (Chyawanprash and saffron) का नाम काफी आम है. च्यवनप्राश और केसर ठंड को बेअसर बनाने का काम करते हैं, मगर क्या आप जानते हैं कि आजकल मार्केट में नकली च्यवनप्राश और केसर भी मिलने लगे हैं, जिन्हें खाने से आपकी सेहत पर कई नुकसान हो सकते हैं. ऐसे में अगर आप चाहें तो कुछ आसान तरीकों से असली-नकली च्यवनप्राश और केसर की पहचान कर सकते हैं.

सर्दियों के दौरान मार्केट में च्यवनप्राश और केसर की मांग काफी बढ़ जाती है, जिसके चलते लोग च्यवनप्राश में मिलावट कर देते हैं. तो वहीं केसर महंगी होने के कारण इसमें मिलावट करना भी आम बात है. इसलिए हम आपको बताने जा रहे हैं असली और नकली च्यवनप्राश और केसर को पहचानने के तरीके, जिसकी मदद से आप खुद की सेहत का खास ख्याल रख सकते हैं.

ये भी पढ़ें: घर पर धोते हैं ऊनी कपड़े, कभी न करें 7 गलती, सॉफ्टनेस के साथ चली जाएगी गर्माहट, ये है वूलेन क्लोद की देखभाल का तरीका

असली और नकली च्यवनप्राश में अंतर
च्यवनप्राश को पहचानने के लिए आप इसे टेस्ट करके देख सकते हैं. बता दें कि असली च्यवनप्राश का स्वाद हल्का तीखापन वाला होता है, लेकिन वहीं चीनी की मिलावट होने के कारण नकली च्यवनप्राश खाने में मीठा लगता है. इसके अलावा असली च्यवनप्राश दूध या पानी में आसानी से नहीं घुलता है, लेकिन वहीं नकली च्यवनप्राश दूध और पानी में डालते ही पूरी तरह से घुल जाता है. साथ ही आप च्यवनप्राश को सूंघकर भी असली और नकली का पता लगा सकते हैं. असली च्यवनप्राश में से इलायची, दालचीनी और पिप्पली जैसी चीजें महकती हैं. वहीं, नकली च्यवनप्राश में ऐसी कोई खुशबू नहीं आती है.

ये भी पढ़ें: ठंड में बाथरूम साफ करने के लिए घंटों नहीं करनी पड़ेगी मेहनत, आजमाएं ये 7 ट्रिक्स, बदबू होगी दूर, चमक उठेगी टाइल्स

असली और नकली केसर की पहचान करने का तरीका
केसर को खाकर भी आप असली और नकली केसर की पहचान कर सकते हैं. इसके लिए केसर को तोड़कर जीभ पर रखें. ऐसे में केसर कड़वी होने पर समझ जाएं कि ये असली है. वहीं, नकली केसर खाने में मीठी लगती है. इसके अलावा केसर खरीदते समय इसे सूंघकर जरूर देखें, क्योंकि असली केसर थोड़ी महकती है. वहीं, नकली केसर की सुगंध काफी अजीब और कड़वी होती है.

इसके अलावा, बेकिंग सोडा से भी आप केसर की शुद्धता का पता लगा सकते हैं. ऐसे में बेकिंग सोडा को पानी में घोल लें. अब इस घोल में केसर के दो रेशे डालें. ऐसे में पीला रंग छोड़ने पर समझ जाएं कि केसर असली है. वहीं बेकिंग सोडा के घोल में डालते ही नकली केसर लाल रंग छोड़ने लगती है.

Tags: Lifestyle, Tips and Tricks



Source link

60 thoughts on “सर्दियों में रोजाना खा रहे हैं केसर और च्यवनप्राश? जरूर कर लें असली-नकली में फर्क, ऐसे करें पहचान”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *